Monday, 29 March 2010

मेरा बचपन ...








दोस्तो, कभी कभी अपना बचपन कितना याद आता है...वैसे मेरा बचपन कुच्छ खास अच्छा नही बीता लेकिन बचपन तो बचपन है..कुच्छ ना कुच्छ तो चंचलता, भोलापन, ठिठोलिया लेकेर ही चलता है अपने साथ और हम कितने भी बड़े हो जाए वो यादे कभी दिल को हंसा जाती है..और ठंडी ठंडी हवाओ के साथ ठंडी फुहारो से भी आलिंगन करवा देती है..ऐसा ही कुच्छ लिख रही हू..जो मुझे याद आता है..

यू परियों की तरह तितली बन घूमना
खेतो की मुंडेरो पर
टेढ़े-मेढ़े कदमो से
फ्रौक के कोने पकड़ पकड़
तितली बन कच्ची मिट्टी में नंगे पैर घूमना
वो सब याद आता है..

दो चोटियाँ कस कस के गूथना..
माँ की लिपीसटिक मूह पे पोतना
मोटी सी बिंदी माथे प सज़ा के..
साड़ी को लपेटे लपेटे..
मोटी सी काजल की धार लगा के
पल्लू को सिर पे ओढ़ कर.
मटक मटक के माँ के सामने यू आना
वो सब याद आता है..

और....

माँ का वो गीत.....
सुन मेरी लाडो..
सास बेगानी..ननद..जिठानी..
ससुरा कंठ लगाना है..
सासू के घर जाना है..
यू ही रूठना..और खिलखिला के हंस देना..
वो सब याद आता है. .

सखियो संग ठिठोली, वो चुटकी..
वो गुदगुदी..वो शरारत और वो भाग जाना..
लकड़ी के पटले नीचे तार घुमा कर
फर्श पे घुमाना..
दादी के चरखे को खाली चलाना..
वो सब याद आता है..

वो पापा का गोद मे उठाना
रसगुल्लो भरा दोना थमाना
रूसी अपनी बिटिया को प्यार से चूमना,,,,मनांना
बहना की शिकायत ....
वो स्कूल मे कमीज़ो पर स्याही छिटकाना ...
वो सब बहुत बहुत याद आता है...

मुझे मेरा बचपन आज भी मेरे बच्चो
मे लौटता नज़र आता है..
वो सब याद आता है..!

23 comments:

ज्योति सिंह said...

दो चोटियाँ कस कस के गूथना..
माँ की लिपीसटिक मूह पे पोतना
मोटी सी बिंदी माथे प सज़ा के..
साड़ी को लपेटे लपेटे..
मोटी सी काजल की धार लगा के
पल्लू को सिर पे ओढ़ कर.
मटक मटक के माँ के सामने यू आना
वो सब याद आता है..
sach kaha bachpan jaisa bhi ho par hota natkhat aur bhola ,uski nishchhalta anmol hai aur use hum apne bachcho me hi paate hai phir
se ,sundar bahut hi .

'अदा' said...

दो चोटियाँ कस कस के गूथना..
माँ की लिपीसटिक मूह पे पोतना
मोटी सी बिंदी माथे प सज़ा के..
साड़ी को लपेटे लपेटे..
मोटी सी काजल की धार लगा के
पल्लू को सिर पे ओढ़ कर.
मटक मटक के माँ के सामने यू आना
वो सब याद आता है..

बचपन की गलियारों में घूम आये हम भी ...
दो चोटी और रिबन लगाना ...आँखों में काजल ..
हाँ मेरी माँ लिपस्टिक नहीं लगाती थी इसलिए वो नहीं लगाया कभी...
सुन्दर कविता....
थैंक्यू जी...

Suman said...

nice

Udan Tashtari said...

मुझे भी...बचपन न जाने कितने रुपों में लौटता नजर आता है.

बहुत उम्दा रचना

बधाई

समीर लाल

kunwarji's said...

ओह बचपन....!
बस यादें रह जाति है जी,
कुंवर जी,

CS Devendra K Sharma said...

ise padhkar wapas bachpan me kho jaane ko jee chahta hai aur yaad aata hai..........."ye daulat bhi lelo ye shorat bhi lelo..bhale chheen lo mujhse meri jawani....par lauta do mujhko wo bachpan ka SAAWAN vo kaagaz ki KASHTI vo BAARISH KA PAANI.........VO KAAGAZ KI KASHTI VO BAARISH KA PAANI"!!!!!!

sangeeta swarup said...

इस रचना ने बचपन की यादें तरोताजा कर दीं...अच्छी रचना.

रचना दीक्षित said...

ओह बचपन !! न ही याद दिलाओ तो अच्छा है. जब भी याद करो कुछ खोने का, कुछ भूल आने का, कुछ पीछे छोड़ आने का अहसास होता है.हर पल कुछ कमी सी महसूस होती है. आज सारी सुख सुविधा है फिर भी वो थोड़े में बहुत ख़ुशी का अहसास अब कहाँ ?

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बचपन को याद दिलाती अदभुत रचना बहुत पसंद आई शुक्रिया

अनिल कान्त : said...

bahut achchhi...dil ke kareeb....bachpan hota hi aisa hai

संजय भास्कर said...

बचपन की गलियारों में घूम आये हम भी ...

संजय भास्कर said...

यादें ऐसी ही होती हैं जो कभी मिटती नही

संजय भास्कर said...

sachmuch achhi rachna hai Anamika didi ji..badhayee.

अमिताभ श्रीवास्तव said...

kisini kaha tha- me bada hokar bachcha bananaa pasand karunga/ sach me bachpan ki yaade,, aur bachpan aadami ka sabse unmukt jeevan hota he, jo dobara nahi loutataa..
dobara lotataa he to sirf shabdo ka pulinda.., yahi umda bhi he..

दिगम्बर नासवा said...

बचपन को जैसे रचना में गूँथ कर रख दिया ...
बहुत लाजवाब .. जैसे जैसे पढ़ता गया .. बचपन में डूबता गया ...

आशीष/ ASHISH said...

Bachpan ke din bhi kya din the!!!
Umda abhivyakti...
Bade hone ke ahsaas ko pare rakh kar gadhi gayee hai ye rachna!
Bachpana saaf jhalakta hai....
Sadhoowaaad!

हरकीरत ' हीर' said...

माँ का वो गीत.....
सुन मेरी लाडो..
सास बेगानी..ननद..जिठानी..
ससुरा कंठ लगाना है..
सासू के घर जाना है..
यू ही रूठना..और खिलखिला के हंस देना..
वो सब याद आता है. .

बहुत खूब .....!!
मैं तो पापा के ज्यादा नजदीक रही हूँ ....जो संस्कार मिले उन्हीं से ज्यादा मिले ....!!
कल आपका मेल भी मिला ...उस वक़्त मन जरा व्यथित था ....बुरा न मने .....शुक्रिया .....!!

CS INDERJEET BANJARA said...

इस उम्दा रचना के लिए बधाई

अरविंद पाण्डेय:Aravind Pandey's blog : परावाणी said...

great

anusamvedna said...

मुझे मेरा बचपन आज भी मेरे बच्चो
मे लौटता नज़र आता है..
वो सब याद आता है..!

आपने सही

M VERMA said...

मुझे मेरा बचपन आज भी मेरे बच्चो
मे लौटता नज़र आता है..
वो सब याद आता है..!
बचपन फिर लौटता है एक बार
सुन्दर रचना
छूती हुई सी

Babli said...

बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! आपकी रचना पढ़कर मैं अपने बचपन के दिनों में लौट गयी! कितने सुनहरे दिन थे- स्कूल जाना सुबह सुबह उठकर, दादा दादी,मम्मी,पापा सभी का प्यार पाना और साथ में पढ़ाई न करने पर डांट सुनना, शाम को दोस्तों के साथ खेलना और न जाने कितना कुछ जो अब सिर्फ़ यादें बनकर रह गयी!

Apanatva said...

bahut pyaree rachana.........
dekhiye kaise bachpan lout aaya............
yado ke galihare me le gayee ye rachana.........