Saturday, 14 March 2015

आखिर तो इंसान हूँ ....

Image result for pics of sad feelings



दिल में चुभन हुई
तो मैं हंसने लगा
मानो  हंस के
चुभन को भुलाने चला ..

चुभन जख्म करने लगी
तो मैं खामोशी से
लब  सी गया
क्यूंकि आंसू दिखाने से
डरता रहा ..

रक्त रंजित किया ..
जख्मों ने छलनी किया
अश्क रुक न सके
आँख छलक ही गयी 

आखिर तो हाड-मांस का
पुतला हूँ मैं.
भावों के स्पंदन से
जलता बुझता हूँ मैं  !!

8 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-03-2015) को "ख्वाबों में आया राम-राज्य" (चर्चा अंक - 1918) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-03-2015) को "ख्वाबों में आया राम-राज्य" (चर्चा अंक - 1918) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

संध्या शर्मा said...

आखिर तो इंसान हूँ, हृदय रखता हूँ, भावों को जीता हूँ … बहुत खूब …

प्रतिभा सक्सेना said...

सामाजिक निषेध ,और नैतिक वर्जनाएँ व्यक्ति की मूल प्रवृत्तियों को संयमित करने के लिए होती हैं पर जब वे स्वाभाविकता पर आघात करती हैं तब जीवन में कुंठाओं का उदय होने लगता है.

Onkar said...

बहुत सुन्दर

अभिषेक शुक्ल said...

बेहतरीन!

संजय भास्‍कर said...

अनामिका जी बहुत सुंदर लिखा है ...
सहज अनुभूति की सुंदर अभिव्यक्ति ...!!

रचना दीक्षित said...

वाह क्या बात है बेहतरीन.सच है आखिर हैं तो हम भी इनसान ही हर छोटी बड़ी बात कुछ न कुछ दर्द दे ही जाती है भले हम कुछ न कहें